• vijjus8722 14w

    तन्हाई की इंतेहा मत पूछिए जनाब ,

    हरे भरे बसंत में पतझड़ सा बीता है मेरा यौवन
    ©vijjus8722