• rjmanjeri 52w

    अंजाम

    मेरे हाथों में अगर ,हाथ तेरा होता।
    जानू ना मैं के मेरा ,अंजाम क्या होता ।
    तुझसे मिलकर मैं अपने ,हाल दिल के कह दूंगा।
    जो भी चाहे दे सज़ा, हस के ज़हर पी लूंगा।
    मेरे हाथों में...।
    कभी तू पास आये, कभी तू दूर जाए।
    बीते ना बिताए दिन, गुजरें ना रातें।
    मेरे हाथों में अगर...।

    © Rj Manjeri
    27.11.2019