• shalindi7sefali 5w

    बेख़बर

    वो कहते हैं गज़ब लिखती हूँ
    अरे बेख़बर मैं तेरा ही दिया हुआ दर्द लिखती हूँ ।।



    शालिन्दी की कलम से