• abdulramiz 5w

    क्या बताएं हम रौनक़ एक दहेज़ की खातिर
    बेटियां गरीबों की आज भी कुवारी हैं

    शाह आलम रौनक़