• lander 23w

    " तेरे यार की किताब "
    काफ़ी "राज़" दफ़न हैं इसमे
    मेह्ज चंद "आने" की हैं
    कभी "फ़ुर्सत" मिले तो पढना इसे
    एक पेहरा तेरे नाम का भी है इसमे
    सुलझ सके तो "सुल्झाना" एक पहेली इसमे
    एक चेहरा "गुम-नाम" भी है इसमे
    ©lander