• writer_unknown 31w

    The Untitled One

    शुरुआत में सिर्फ आपका नही हर किसी का चेहरा निखरता है।
    कुछ दिन रंग तो देखो इस गुनाहे मुहब्बत के जनाब।
    आखिर में हर दिल टूट कर शीशे की तरह ही बिखरता है।।
    ©writer_unknown