• tricky_writer 9w



    ये अलग बात है , की
    अब हँस देती हूँ तुम्हारी हर बात पे ,
    कहां तक तुम्हें अपना प्यार जताऊ !
    तुम चाहते हो ,
    बारिश में भीग कर , फिर नया हो जाऊं ,
    ऐसा मुमकिन नहीं हैं मेरी जान ,
    कहां तक तुम्हे ये बात समझाऊं !

    ©d_i_v_y_a