• avigos 35w

    खुदाई कुछ ऐसी है चंद पलों के उस गुफ्तगू में
    कि एक अजीब सी हंसी में अनजाना बन बैठता हूं
    पलो कि वह साजिश तलब ंसी बन जाती है
    काश वक्त हाथ में होता ,उस हंसी को ही जिंदगी बना लेता
    साथ में अगर वह नजरें होती तो उनसे रिश्ता जोड़ लेता °
    ©avigos