• rekhas_diary 23w

    ख्वाब..

    हर आँखों की चाहत तो ख्वाब हैं
    पर ख्वाब-ए-किस्मत तो करम तय करें
    के वो आंसू बन के बहें
    या नीगाहे उनका हकीक़त में दिदार करें
    ©rekha_ikkar