• kaypee 47w

    पुत्र

    बेटे की चाह रखते हो
    पर ये नह़ी समझते हो

    बिन बेटी ना खिलेगें आंगन मे फूल
    ना बढेगा कुल
    कैसे वंश बढाओगे
    बिन बेटी माँ किसे बनाओगे।।।