• aanujbachhav 5w

    वो एक रात मेरे नसीब मे हो
    जिस वक़्त तुझे में बाँहों मे लु
    हक़ीक़त ना सही पर सपना तो सही हो,
    में बंदा बदनाम जमाने का
    कोई नहीं तो कोई और सही हो...
    ©aanujbachhav