• saurabhchauhan 23w

    काग़ज़ का होकर भी बारिश में भीग रहा हूं मै
    ज़िन्दगी तेरे हर पहलू को जीना सीख रहा हूं मै