• ajayaj 9w

    शिद्दत तो इतनी थी कि अगर पीछा करते तो मंजिल थक जाती।
    मगर कमबख्त इरादें नेक होते भी आंखें भटक गई ।।