• parvesh1 31w

    जलती जा जलती जा राख बन जा, सहारा तू फिर भी नही बन सकती किसी का। वो पागल है जो सहारा बनाते है तुझे, और तू राख बनाती हैं उन्हें!!!

    Parvesh