• poetry_inside 31w

    बंद करो दीवार मज़हब की ,
    आओ सुख की रोटी खाए

    हिंदू, मुस्लिम, सिख,ईसाई,
    मिलकर सब एक हो जाए !!
    ©amitdev