• solely_you_ 9w

    आज भी मेरी बातों मे तेरा ज़िक्र रेहता है
    आज भी मेरी दुआओं मे तेरा फिक्र रेहता है।।

    आज भी सपनो में तेरा बसेरा है
    आज भी ये दिल तेरी खुशबू को अपने बाहों मे लिए घेरा है।।

    आज भी इन आँसुओं की वजह तुम हो
    और आज भी एक प्यारी सी सज़ा तुम हो।।

    ©solely_you_