• akshay_p 10w

    तरक़्क़ी मिल रही है शायरी से मुझे,

    देखो तुम्हारा ज़िक्र भी मेहेंगा बिक रहा है.।

    ©akshay_p