• _shraddha_rajput_ 9w

    मेरी सहर भी तू,
    मेरी सांझ भी तू,
    इस भाग- दौड़ भरी जिंदगी की ठहराव है तू।
    मेरा गुस्सा भी तू,
    मेरा प्यार भी तू,
    मेरे दिल का हर जज़्बात है तू।
    .
    .
    तू है मेरा, मैं हूँ तेरी,
    ये जग जाने, ये रब जाने।
    तेरे बिना जीना जो पड़े,
    ऐैसी ज़िन्दगी फिर ना जाने।

    ©_shraddha_rajput_