• paras18 5w

    Jindagee

    जाये तो जायें कहा
    तू साथ ना दे पर ज़िंदगी तो है
    ज़िंदगी क्या तूने बताया
    पर जिसे निभाने तू है ही नहीं
    ज़िंदगी है मैं हू ये पता नहीं
    जियूँ तो जियूँ कैसे

    ज़िंदगी एक बार मिलती है
    बाक़ी तो सब बाज़ार है