• syeddanishabdi 9w

    ज़हरीली लड़की

    वो लड़की नही ज़हर थी
    ज़हर चखना भी अपना एक शौक था

    सहाब मेरा भी वो एक दौर था

    जब भी वो मुस्कुराती थी
    मानो जैसे बिजलिया गिराती थी

    साथ साथ चलती थी उसके अप्सराये
    और न जाने क्यों वो मुझसे ही नज़रे चुराये


    और फिर कुछ यूह हुआ
    मुझे भी उससे इश्क हुआ

    ©syeddanishabdi