• ijassmanak 6w

    कुछ मेरे सपनो के पीछे भाग रहा हूँ,
    कुछ अपनों के लिये रातें जाग रहा हूँ
    कुछ तो बात है सपनो में,
    ये मुझे सोने नहीं दे रहे,
    कैसे भूल जाऊँ एहसान अपनों के
    गम में भी ये मुझे रोने नहीं दे रहे,
    ©jass_manak_