• preet_ 10w

    फिर उन्हीं रास्तों पे तेरे तेरे कदमों का मिलना बाक़ी हैं