• shivamsinghsagar 23w

    खुली आँखों से उम्मीदें थी ओर बंद
    आँखों में थे सपने वक़्त ने ऐसी करवट मारी के वो भी लगे अब चूबने..?

    ©shivamsinghsagar