• pagal2 6w

    ऐ ज़िन्दगी ......

    तेरे नखरों से बेहतर तो


    हमरी स्कूल किताबें थी ....


    देर से ही सही

    समझ में तो आती थी