• iqqukhan 9w

    कौन दिल की ज़बाँ समझता है
    दिल मगर ये कहाँ समझता है