• ms_shayara 20w

    एक सपना था जो टूट गया
    कोई अपना था जो छूट गया

    बिन बादल अब बारिश होने लगी
    एक मुस्कान थी जो कहीं खोने लगी
    हम लगे रहे यादों को समेटने में..
    और उन यादों का वो ख़्वाब ही रूठ गया

    एक सपना था जो टूट गया
    कोई अपना था जो छूट गया


    - नैन्सी उप्पल

    ©ms_shayara







    #ms_shayara

    Read More

    .