• acharyashilak 36w

    मै मै मै मै मै मै

    ये दुनिया एक खेल तमाशा है
    नहीं कसे से कोई आशा है
    सबको पडी बैड अपनी अपनी
    यहां कुंठा एवं हताशा है।
    किसी के लिये कोई करे कितना ही
    मानेगे बस खुद के अहम् जितना ही
    जिन्दगी चाहे अपनी लगा दो दाव पर
    सबकी निज जरुरत की परिभाषा है।
    जीवन वैभव को जीना न चाहते
    लड़ाई झगड़े व आरोप ही भाते
    मै ठीक बाकी सब गलत है
    घमंड घमंड पैमाने से भी खासा है।
    जिसको जो करना करके रहेगा
    जानबूझकर जीवन काँटो भरेगा
    कोई किसी का अहसान न मानता
    लगता है यह जीवन एक झासा है।