• _palakagr_01 26w

    सच्ची आंसुओं को छिपाकर
    झूठी मुस्कुराहट लाना
    हमारी मजबूरी होती है
    रहना यहीं, सँवरना यहीं
    जीना यहीं, मरना यहीं
    ----इसलिए हम जैसे हैं,
    वैसे ही रहने दो........