• jyotisinha 23w

    आँखे तुम बिन रोज यूँ ही बरस जाया करती है
    जैसे आज आसमां बरस रहा है जमीं के लिए