• saketwrites 23w

    दिल रोज़ सजता है
    नादां दुल्हन की तरह
    ग़म रोज़ चले आते हैं
    बरसाती बन के