• margdarshan 23w

    मेरी ख़ामोशी

    खाली खाली से है मेरे शब्दों के गुलदस्ते आज, कभी कभार मेरी ख़ामोशियां भी पढ़ लिया करो
    ©margdarshan