• solitudecare 35w

    भुला मैं भी नही

    सुना है आज कल वो परेशान रहती है 
    उससे कहना बे -फ़िक्र मैं भी नहीं हूँ

    सुना है वो गुमसुम रहती है 
    उससे कहना हाज़िर जहाँ मैं भी नहीं हूँ

    सुना है वो रातों को जागा करती है 
    उससे कहना सोते हम भी नहीं है

    सुना है वो चुप चुप के रोती है 
    उससे कहना हँसता मैं भी नहीं हूँ

    सुना है वो मुझे याद बुहत करती है 
    उससे कहना भूला मैं भी नहीं हूँ..#देव
    ©devd1437