• kamalsingh 35w

    चाहे सम्त-दर-सम्त बदले तेरा दिल हर बार,,
    चाहे कितना कर लो तुम मेरी मुहब्बत को इनकार,,
    चला जाऊँगा कहीं दूर अंजान सम्त में,,
    बस एक बार निगाहों में निगाहें डाल के कह दो,,
    तुमको मुझसे नहीं है प्यार,,k,,
    ©kamalsingh