• ravitiwari005 5w

    तरसे नयना

    वो साथिया तू जान के भी जान नहीं पाया
    दिल में रहकर दिल को पहचान नहीं पाया,
    अब तेरे बिन इन दूरियों को मुश्किल है सहना
    जो दर्द है उसे लफ्जों में अब मुश्किल है कहना,
    तरसे ये नयना तरसे ये नयना!
    प्यार की पहली बारिश में क्यों बरसे ये नयना
    तुझसे बिछड़ के लम्हा लम्हा बरसे यह नयना,
    नामुमकिन है इस धड़कन को सीने में रहना
    आंखों का भी काम है अब उसको में बहना,
    तरसे ये नयना तरसे ये नयना!
    ©ravitiwari07