• solivagant_07 5w

    मेरे लेखन में रोज निहारती हूँ में मुझे // ��

    Read More

    मेरे विचार मेरे दिल से हो कर
    सीधे स्याही में समां जाते हैं
    और कागज़ पे ऐसे उतर आते हैं
    जैसे मेरी आत्मा का प्रतिबिंब हो |
    ~Vaishnavi ♥️