• ehsaas_arav 23w

    बंजर जमीं में खून बहा वो फसलें खूब उगाता है
    है किसान जिस खेत का वो उसे मां सा प्यार जताता है
    रोज सुबह से शाम पड़े तक वहीं जीवन उसका जाता है
    वही दसवीं है वही स्नातक है वही उसका सारा खाता है।

    प्राकृतिक आपदा से घिर जब वो फसल तबाही पाता है
    वही सदमा उसकी जननी का वहीं उसकी कब्र बनाता है
    सरकारें मृत्यु पर इनकी स्कीमें नई-नई लाती हैं
    पर कैसे बचे फसल और जीवन इसको लेकर ठंडी है।

    हम भी बड़े घिनौने हैं बड़े ठाठ से बैठे खाते हैं
    भूख से ज्यादा लेते हैं और बाकी व्यर्थ बहाते हैं
    अरे करके देखो इक रोज जरा तुम मेहनत नंगे पैरों से
    उस किसान का कर्ज बड़ा है जिसका खाना हरदम खाते हैं।

    #wds #life #mirakee #hind #kisan #hindilekhan
    #hindiwriters #HUnetwork #sammusafiir #trickypost
    @writedilse @hindiwriters @hindiurdu_saahitya
    @hindilekhan @arohi0992 @differentgirl @succhiii @devesh_upadhyay @trickypost @vishalpandhare

    Read More

    बंजर जमीं में खून बहा वो फसलें खूब उगाता है
    है किसान जिस खेत का वो उसे मां सा प्यार जताता है
    रोज सुबह से शाम पड़े तक वहीं जीवन उसका जाता है
    वही दसवीं है वही स्नातक है वही उसका सारा खाता है।

    प्राकृतिक आपदा से घिर जब वो फसल तबाही पाता है
    वही सदमा उसकी जननी का वहीं उसकी कब्र बनाता है
    सरकारें मृत्यु पर इनकी स्कीमें नई-नई लाती हैं
    पर कैसे बचे फसल और जीवन इसको लेकर ठंडी है।

    हम भी बड़े घिनौने हैं बड़े ठाठ से बैठे खाते हैं
    भूख से ज्यादा लेते हैं और बाकी व्यर्थ बहाते हैं
    अरे करके देखो इक रोज जरा तुम मेहनत नंगे पैरों से
    उस किसान का कर्ज बड़ा है जिसका खाना हरदम खाते हैं।

    ©ehsaas_arav