• ashishakkewar 73w

    तु अपने अकेलेपन को यू कमजोरी के सिक्को से ना तोल
    अपने अंदर के सैलाब को यू रुकने ना दे
    कभी दिन ढले अपने ख्वबो कि कीताब खोलना
    उस रात को भी तुझपे गुरूर हो कुछ ऐसा लिखना
    ©ashishakkewar