• intoxicating_zinx_words 22w

    खोल कर दामन अब समेट लो मुझे
    खुद को उधेड़ कर पन्नों पर
    तमाशा अब खुद का,
    बनाया नहीं जाता

    -@शालिनी
    ©intoxicating_zinx_words