• 1_yaden 23w

    ' पापा '

    हाँ,मेरे हर आज़ादी का वही तो एक राज़ है
    वो इस दुनिया के तप्ती धुप में मेरे लिए छाव है
    वो है तो दुनिया में मेरे सारे अपने हैं
    उसके कारन ही पूरे हुए यहाँ मेरे सारे सपने हैं
    जिंदगी के हर मोड़ पर सही गलत की पहचान है
    पापा हैं तो जान है वरना पूरी दुनियां वीरान है
    जताता है, सताता है रूठ जाऊ तो फिर मनाता है
    रोने पर मुझे हमेशा हँसाता है
    मेरी हर ख्वाहिशों को बिना बोले पूरी करात है
    हर किसी के लिए अपने ग़मों को छुपाता है
    पापा है तो घर में स्वर्ग है वरना घर भी वीरान है
    ऐसा अहसास दिलाता है।
    ~ सौरभ मिश्रा
    ®1_yaden