• aanujbachhav 9w

    कौन मोहोब्बत करेगा उस्से जिसे ज़िंदगी ने ठुकराया हो,
    कौन यक़ीन करेगा उसपे ज़िस्से नसीब ने ठुकराया हो,
    वो इंतज्जार कर रहा था किसी का
    जिंसें इश्क़ था नक़ामियो से
    उस का साथ भला कोन देता
    हर एक एक को इंतज़ार था मशहुर होने को..
    ©aanujbachhav