• saloni747 5w

    तुहफ़ा शब-ए-बारात में क्या दूं
    मेरी जान तुम तो ख़ुद ''पटाखा'' हो


    ---अकबर इलाहाबादी