• drgouravrathod 5w

    एक इंतेज़ार हीहै जिसमै “आस”है
    कभी फिर से मिलने की आस
    कभी फिर से वो लम्हे जीने की आस
    कभी फिर से हाथों मै हाथ लेकर घंटो बैठने की आस
    फिर जी भर तुझे देखने की आस
    एक इंतेज़ार ही तो है मेरे पास
    गुजरा हुआ कल बस अपना है
    जो आनेवाला कल एकसपना है
    तू चाहे बुरा समझ मुझे मलाल नहीं
    लेकिन तेरी मेरी यादों के वो गुज़रे हुए पल
    वो शहर,वो गलियाँ,शामें ,रातें,
    वो तेरा नहा कर खुले बालों को सुखाना
    वो ख़ुशबू का हवा मै घुल जाना
    याद है मुझे और सदा रहेगा
    और रहेगा सदा एक इंतेज़ार
    क्यूँकि एक इंतेज़ार हो है मेरे पास अब
    एक बस इंतेज़ार ही मेरे पास

    Read More

    #इंतेज़ार
    #आस
    #hamesha priority pri