• lucknowdreams 23w

    #और नहीं

    अब भूल जाऊँ तुमको तो ये दिल सुकून पाये
    कई मुद्दतों से देखो मुझे नींद भी न आये
    तेरी यादों के ये सिलसिले मेरी पलकों पे हैं भारी
    तेरी याद है कि देखो ये ग़मों के हैं साये
    तुम्हारी बफ़ा पे हरगिज न मुझे यकीन होता
    था तेरे लबों का जादू जो इतने फरेब खाये
    तुम जीत के भी हारे हम हार के भी जीते
    जो समझ सको मुहब्बत तो ये राज समझ आये
    ©शैलेंद्र ©lucknowdreams