• vineet_sharma 30w

    रास्ते

    सौ रास्ते हैं
    सौ सपने है
    हर एक यहीं खत्म होगा
    हर एक यहीं शुरु होगा
    दूरीयां जो भी थी
    सब खत्म हो गई
    जो कुरबत ही न रही।