• gyanendra_946 23w

    तपती दोपहरी, गरम रेत पर...
    ठंडे पानी की बूँदों जैसा काम कर गई...
    तेरी आवाज़ जो कल सुनी मैंने...।
    ©gyanendra_946