• prince_kmr 6w

    ठाकुर साहब के मकान के लेफ्ट में एक लुहार रहता था और राइट में ठठेरा (जो बर्तन बनाता है)।।
    दिन भर दोनो के काम से जो शोर होता था उस से ठाकुर साहब परेशान हो गए।।
    एक रोज सुबह सुबह बंदूक लेकर बाहर गए दोनो को बुला कर कहा-आज शाम तक तुम दोनों घर बदल लेना नही तो कल सुबह गोली मार दूंगा।।।दोनो ने डरते डरते ठाकुर साहब को अशश्वस्त किया। कि ऐसा ही होगा।।
    रात ठाकुर साहब बड़े उत्साहित होकर सोये के कल सुबह के बाद शोर से निजात मिलेगी।।
    अगले दिन सुबह ठाकुर साहब की आंख फिर ठक ठक से खुल गई।।गुस्से में बंदूक उठाई और दौड़ते हुए बाहर निकल गए।।
    बाहर जाकर जो नज़ारा देखा तो सकते में आ गए-
    लुहार के मकान में ठठेरा शिफ्ट हो गया और ठठेरे के मकान में लुहार।।

    इस कहानी का कांग्रेस अध्यक्ष पद से कोई लेना देना नही है।।बचपन मे कोर्स रीडर में पढ़ी आज याद आ गई।।
    ©prince_kmr