• voiceofwords_16 24w

    उड़े उड़े बन के लिफ़ाफ़े,
    भीतर समेटे पन्ने किताबे,
    कहें कहें आँखों की बातें,
    कभी निचोड़े भीगी जो रातें,

    आजा आजा सुन ये कहानी,
    बीती बीती संग तेरे जवानी,
    लबों से ना दिल की जुबानी,
    सुन ले सुन ले ओ दीवानी,

    मेरी ये साँसे तेरी उधारी,
    यादें तेरी करती पहरदारी,
    मेरी जो किश्मत तूने सुधरी,
    तूने बिगाड़ी मृत्यु पधारी,

    संभाल रखा वो सिलवटें है,
    सुनी मेरी अब करवटें है,
    न खुदा रहा न रहमत-ए है,
    बना वो मेरी जहमत-ए हैll
    ©voiceofwords_16