• hemu_hemu 45w

    लाख कह लूँ मैं,
    की मुहब्बत है।।
    इल्तज़ा है कि,
    मान मत जाना।।

    मुझे नहीं पता,
    मुहब्बत क्या है ?
    मुझे पता है,
    मुहब्बत की जबाँ।।

    कैसे कह दूँ
    कि फिर से दुकान
    पे बैठा हूँ ।।
    और
    दुकान पे,
    समान को बेचने को
    जूठे -सचे वादे
    करने पड़ते हैं।।

    लाख कह लूँ मैं,
    की मुहब्बत है।।
    इल्तज़ा है कि,
    मान मत जाना।।