• suditi 22w

    जितने हम अधूरे हैं उतने ही हम पूरे हैं।
    बस उस अधूरेपन को पूरा करते करते जो था वो भी खो देते हैं।