• ayushikhamesra 10w

    Mom

    चोट मुझे लगती, आँखें तेरी होती नम है,
    बिना कुछ कहे समझ लेती मेरे सारे ग़म है |

    तू हर बार बन जाती मेरी ताकत है,
    तेरी इबादत ही मेरी आदत है |

    दूर चाहे कितनी भी हूँ, पर फासला नहीं है,
    तेरे दिल से जो मेरा रिश्ता है वो बहुत सही है |

    चाहूँ अपने जीवन की सारी खुशियाँ तेरे नाम कर दूँ,
    तेरी आँखों में आँसू नहीं, ख़ुशी झलके, ऐसा काम कर दूँ |
    ©ayushikhamesra